10 जून को लगने वाले ग्रहण से सबसे ज्यादा खतरा है गर्भवती महिलाओं को

ज्ञान धार्मिक

इस वर्ष का प्रथम सूर्य ग्रहण लगने वाला है 10 जून के दिन आपको जभी भी अवश्य के दिन चंद्रमा सूर्य तथा पृथ्वी के मध्य में आता है। तो ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है जिसे हम सूर्यग्रहण बोलते हैं वैज्ञानिकों का मानना है कि इस बार पूर्ण सूर्य ग्रहण लगेगा जिसके कुछ फायदे भी हैं और कुछ नुकसान भी है लोगों की मान्यता यह है कि इस दिन रिंग ऑफ फायर भी दिखाई देती है हालांकि भारत में आमतौर पर सूर्य ग्रहण ही नजर आएगा। इसलिए सूर्य ग्रहण के दिन सूतक काल नहीं माना जाएगा। ज्योतिषों के मुताबिक, इस ग्रहण का प्रभाव कुछ राशियों पर देखेने को मिलेगा। इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव वृषि राशि पर पड़ेगा। आइए जानते हैं शास्त्रों के मुताबिक, सूर्य ग्रहण के वक़्त किन कामों को करने से बचना चाहिए।

सूर्य ग्रहण कब से कब तक लगेगा:-
10 जून को ग्रहण बृहस्पतिवार की दोपहर 1 बजकर 42 मिनट पर लगेगा तथा 6 बजकर 41 मिनट तक रहेगा। सूर्य ग्रहण से 12 घंटे पहले सूतक काल आरम्भ हो जाता है। ये सूर्य ग्रहण उत्तरी अमेरिका, यूरोप, उत्तरी कनाडा तथा रूस और एशिया में आशिंक रूप से नजर आएगा। इस ग्रहण का भारत में कोई असर नहीं नजर आएगा। इसलिए धार्मिक कार्य होंगे।

भारत में ग्रहण का प्रभाव देखने को नहीं मिलेगा फिर भी ज्योतिषों के अनुसार, गर्भवती महिलों को सावधानी बरतने तथा कुछ कार्यों को नहीं करने के सुझाव दिए गए है…
1- ग्रहण के वक़्त से पहले स्नान कर लेना चाहिए। इस के चलते जितना हो सके प्रभु को याद करें।
2- सूर्य मंत्रों का जाप करना चाहिए।
3- ग्रहण काल में क्रोध, किसी की निंदा नहीं करना चाहिए।
4- ग्रहण के वक़्त में कैंची, चाकू आदि का उपयोग नहीं करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.