उत्तराखंड के DM का शानदार फैसला

खबरे शहर

उत्तरकाशी जनपद में अब प्राथमिक स्कूलों के विकास के ऊपर जिलाधिकारी मयूर दीक्षित द्वारा पूरा फोकस किया जा रहा है। स्कूलों के खुलने तक जिलाधिकारी सरकारी प्राथमिक स्कूलों के सुधारीकरण की ओर काम कर रहे हैं। स्कूल के अंदर ही विद्यार्थियों के लिए सभी सुविधाओं का पुख्ता इंतजाम किया जा रहा है। विद्यार्थियों को पौष्टिक मिड-डे मील मिले इसके लिए एक बेहद सराहनीय पहल की जा रही। उत्तरकाशी में मध्याहन भोजन यानी कि मिड डे मील में प्राथमिक सरकारी विद्यालय में पढ़ रहे सभी छात्र एवं छात्राओं को पौष्टिक आहार मिले और स्कूल के खुलने तक भोजन माताओं को भी रोजगार मिल सके इसके लिए उत्तरकाशी में हर विद्यालय के अंदर के किचन गार्डन तैयार करवाए जा रहे हैं। किचन गार्डन में विद्यायल परिसर के एक छोटे से स्पेस के अंदर हरी एवं पौष्टिक सब्जियां उगाई जाएंगी और इन्हीं सब्जियों को बच्चों के मध्याह्न भोजन में इस्तेमाल कर भोजन की पौष्टिकता को बढ़ाया जाएगा। स्कूल के अंदर ही खाना बनने से साफ सफाई भी कायम रहेगी और खाने की शुद्धता भी कायम रहेगी।

यह उत्तरकाशी प्रशासन द्वारा एक बेहद सराहनीय कदम है। जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने सर्व शिक्षा व रमसा (राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान) की समीक्षा बैठक में किचन गार्डन के ऊपर सहमति जता दी है और शिक्षा विभाग को गंभीरता से काम करवाने के निर्देश भी दे दिए हैं। कोरोना की महामारी को मध्यनजर रखते इन दिनों सरकारी स्कूलों के अंदर छोटी कक्षा के बच्चे नहीं आ रहे हैं। ऐसे में वर्तमान में उनके लिए किचन गार्डन तैयार करने के लिए काफी समय है। इसी को देखते हुए जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने कहा कि भोजन माताओं के पास प्राथमिक स्कूल के विद्यार्थियों के लिए किचन गार्डन को बेहतर बनाने का पर्याप्त समय है।

जब स्कूल खुलेंगे, तो सब्जियां किचन गार्डन में तैयार की जाएंगी और उन समकक्ष सब्जियों का उपयोग उन युवाओं के लिए तैयार पोषण प्राप्त करते समय किया जाएगा। इसके अलावा, जिला मजिस्ट्रेट मयूर दीक्षित ने कहा है कि जिन स्कूलों में वैध पेयजल ढांचा नहीं है, उन्हें स्कूल वाटर लाइफ मिशन के तहत आवेदन करना चाहिए, ताकि सभी बच्चे स्वच्छ पानी के लिए संपर्क करें।

क्षेत्र मजिस्ट्रेट मयूर दीक्षित ने शिक्षा विभाग को तीन अतिरिक्त आर्किटेक्ट के सुधार वर्ग को बदलने के लिए सिखाया है। इन वास्तुकारों को काफी समय से स्थानांतरित नहीं किया गया है और इसके अलावा जिला मजिस्ट्रेट ने विकास कार्यों की प्रकृति की गारंटी के लिए विभिन्न कार्यालयों के डिजाइनरों से समीक्षा प्राप्त करने के लिए दिशा-निर्देश की पेशकश की है। इस घटना में कि गुणवत्ता में कोई कमी है, इसे तुरंत बाहर ले जाया जाएगा। अधिक युवा बच्चों को पौष्टिक भोजन और साफ पानी देने के साथ-साथ, जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने शिक्षा अधिकारी को समन्वित किया है कि उत्तरकाशी में जो भी स्कूल शौचालयों में अपर्याप्त है या जहां शौचालय की स्थिति भयानक से अधिक भयानक है और शौचालयों के विकास के लिए आरक्षित हैं। । जिन स्कूलों में ऐसा नहीं किया गया है, उन लोगों के ठहरने को तुरंत सुलभ बनाया जाना चाहिए ताकि उत्तरकाशी के सभी प्रशासन स्कूलों के अंदर शौचालय बनाए जा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.