गूगल की बोर्ड में मिली जगह गढ़वाली कुमाऊंनी भाषा को

खबरे शहर

उत्तराखंड से ताल्लुक रखने वालों के लिए एक खुशखबरी है। गूगल ने उत्तराखंड की लोकभाषाओं के लिहाज से एक शानदार पहल की है। गूगल की इस पहल से अब उत्तराखंड की लोक भाषाओं को एक अलग नाम और पहचान मिलेगी। उत्तराखंड की  लोकभाषाओं गढ़वाली और कुमाऊंनी को अब गूगल ने अपने कीबोर्ड के अंदर समाहित कर लिया है। अन्य भाषाओं की तरह अब हम गूगल इंडिक कीबोर्ड में गढ़वाली और कुमाऊंनी में भी लिख सकते हैं। अब तक गढ़वाली और कुमाऊंनी में लिखने के लिए हमें हिंदी कीबोर्ड का प्रयोग करना पड़ता था। मगर अब गूगल ने दोनों लोग भाषाओं के लिए अलग से ऑप्शन दे दिया है जिसका उपयोग करके आप आसानी से गढ़वाली और कुमाऊंनी में टाइप कर सकते हैं। गूगल कि इस अनोखी पहल से कुमाऊंनी और गढ़वाली लोकभाषाओं को एक अलग पहचान मिलेगी और इससे भाषा का प्रचार और प्रसार भी होगा। इसी के साथ लोगों के बीच में मातृभाषा के प्रति लगाव भी बढ़ेगा।

इस तथ्य के बावजूद कि कुमाउनी और गढ़वाली वर्नाक्यूलर हैं और उनकी सामग्री देवनागरी है, हालांकि और फिर भी, दिन के अंत में हिंदी कंसोल के साथ एक मुद्दा था जो दो लिंगों की हार्ड कॉपी के रूप में दर्ज किया गया था। एक पीसी से गढ़वाली और कुमाउनी में लिखना कुछ भी मुश्किल था, लेकिन सेल फोन में लिखने के लिए एक लंबा प्रयास करना पड़ा। Google कीबोर्ड की इस गतिविधि के साथ, कई व्यक्तियों के पास गढ़वाली और कुमाऊँनी बोलियों की रचना करने का विकल्प होगा, वर्तमान में इसकी सहायता से, कुमाउनी और गढ़वाली शब्दों को बहुमुखी में अंग्रेजी रोमन शब्द की रचना करते हुए प्रभावी ढंग से बनाया जा सकता है। हर कोई महसूस करेगा कि वर्तमान में एक महान कई लोग टेलीफोन पर ऑनलाइन मीडिया का उपयोग करते हैं। वे टेलीफोन पर ऊर्जा के बड़े हिस्से का निवेश करते हैं। इस गतिविधि के साथ, वेब आधारित मीडिया के माध्यम से जानेमन लिखने का विकल्प पोर्टेबल के माध्यम से अपनी स्थानीय भाषा में लिखने का विकल्प होगा और उनके पास बिना किसी समस्या के गढ़वाली और कुमाउनी में लिखने का विकल्प होगा।

इस्तीफा देने वाले प्रशिक्षक और साहित्यकार जगदीश जोशी कहते हैं कि Google की इस गतिविधि से गढ़वाली-कुमाऊँनी भाषा लेखन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। वह कहते हैं कि आज अवसर तेजी से बदल रहे हैं। बहुमुखी के माध्यम से रचना को नीचे करने का कार्य इसी तरह विस्तार है। इस घटना में कि आपको गढ़वाली और कुमाउनी में पोर्टेबल में रचना करने का विकल्प मिलता है, उस समय यह लेखन में मदद करेगा और यह भाषा को आगे बढ़ाएगा। इसके साथ ही, युवा लेखक और कलाकार राजेंद्र का कहना है कि इस घटक के माध्यम से, कुछ भी हो सकता है लेकिन बहुमुखी में लिखना मुश्किल है और व्यक्तियों के पास अपनी पहली भाषा में एक दूसरे के साथ बात करने का विकल्प होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.