उत्तराखंड के लिए गौरवशाली पल…

खबरे पर्यटन शहर

” जल ही जीवन है ” यह महज कथन नहीं आज की जरुरत भी है। यह जरूरी है कि अब लोग सच में इस नारे को धरातल पर उतारें। एक ओर जहां पानी जैसी अनमोल और मूलभूत जरूरत को बचाने के लिए महज बड़ी-बड़ी बातें ही होती हैं, दूसरी ओर रुद्रप्रयाग के एक गांव के लोगों ने वाकई जल को अमूल्य चीज मानते हुए जल संरक्षण को सीरियसली लिया और पानी बचाने की ओर धरातल में सबने एक जुट होकर प्रयास किया और उनका प्रयास सफल भी हुआ। रुद्रप्रयाग के गांव को जल प्रबंधन और जल संरक्षण के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया।

हम उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में जाखोली ब्लॉक के लुथियाग कस्बे की चर्चा कर रहे हैं, जिसमें पानी के बोर्ड और जल संरक्षण के लिए सार्वजनिक स्तर पर प्राथमिक स्थान है, और ग्राम पंचायत को सम्मान के रूप में 2 लाख रुपये की राशि दी गई है। इस कस्बे के बोर्ड मॉडल का पानी पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा मन की बात में भी दिया गया है। रुद्रप्रयाग के लुथियाग शहर के व्यवसायियों ने प्रदर्शित किया है कि आकाश आपस में जुड़कर सीमा है। राशन पानी के लिए ऐसे प्रयास किए जाने चाहिए।

विज्ञान भवन नई दिल्ली में 11 और 12 नवंबर को द्वितीय राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह का आयोजन किया गया। कोविड-19 की महामारी को देखते हुए आयोजन ऑनलाइन किया गया और 12 नवंबर को मुख्य अतिथि भारत के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने रुद्रप्रयाग जिले के जखोली ब्लाक की ग्राम पंचायत लुठियाग को जल प्रबंधन के लिए नॉर्थ जोन में ग्राम पंचायत स्तर पर प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया और ग्राम पंचायत को 2 लाख रुपए की धनराशि भी पुरस्कार स्वरूप प्रदान की गई है। समारोह में केंद्र सरकार के जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, जल शक्ति और सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण राज्य मंत्री रतनलाल कटारिया और जल शक्ति मंत्रालय के जल संसाधन नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग के सचिव यूपी सिंह उपस्थित रहे।

जल संरक्षण के लिए ग्राम पंचायत लुथियाग को प्रथम पुरस्कार मिलने की खुशी जाहिर तौर पर निवासियों के बीच ध्यान देने योग्य है। क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष विधायक भरत सिंह चौधरी पूर्व अध्यक्ष लक्ष्मी राणा ने लुथियाग शहर के लोगों की सराहना की है। उन्होंने कहा कि निवासियों के बिना पहले पुरस्कार प्राप्त करना मुश्किल था। यह मुश्किल काम और निवासियों पर ध्यान देने के कारण है कि हमारे शहर का मुख्य पुरस्कार है और रुद्रप्रयाग का नाम चित्रित किया गया है। वे आगे भी ऐसे प्रयासों को जारी रखेंगे। जिला पंचायत अध्यक्ष ने कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मानस में जल संरक्षण के प्रभावी मॉडल और रुद्रप्रयाग के लुथियाग शहर के अधिकारियों को संदर्भित किया था। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण के क्षेत्र में, शहरवासियों ने शहर को सार्वजनिक स्तर पर एक विशेष व्यक्तित्व दिया है, जिसमें शहर सहित पूरे क्षेत्र के लिए गौरव शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.