गढ़वाल में हे कलयुगी का समय एक गुरु ने छात्रा से रेप कर किया गर्भवती..

खबरे शहर

उत्तराखंड के टिहरी में लगभग 3 साल पहले एक दिल ”द”ह”ला” देने वाली ब”ला”’त्का”र” की घट”’ना”’ हुई थी, जहाँ एक शिक्षक ने अपने छात्र को अपनी ही मा”न”’व”ता’ का ‘शि’का”’र बनाया था। जहां शिक्षक को भगवान का दर्जा दिया जाता है, वहीं टिहरी गढ़वाल में इतिहास के शिक्षक ने मा’न’व”ता” की सभी ह”दें” ””पा”र”’ ”कर”” दीं’ और अपनी ही ना’बा’लि’ग लड़’की’ ‘को” ”अप’नी”’ ह”व”स’ का ‘शिका’र’ बनाया और उसे ग”र्भ”वती’ बना दिया, अब 3 साल बाद आ”खि’र”’का”र पी’ड़ि”त ‘छात्र को न्या”य’ ‘मिला है और दो’षी”’ पाए जाने पर आ’रो”’पी”’ शिक्षक को 20 साल की कै”द’ ‘की स’जा’ सुनाई गई है। इसके साथ ही अ’दाल”’त ने आ’रो”पी’ शिक्षक पर 25000 का जु’र्मा”ना’ भी लगाया है, अगर जु’र्मा”ना” नहीं दिया जाता है, तो आ”रो”पी” शि”क्ष”क’ को 6 महीने का समय दिया जाएगा। रुपये के अतिरिक्त का”रा”वा’स ‘का भी सामना करना पड़ेगा। 3 साल के लंबे इंतजार के बाद आखिरकार ”पी’ड़ि”त’ को न्याय मिल जाता है और स”च्चा”’ई” कायम हो जाती है। अब 20 साल के लिए, अदा”’ल”त” ने बला”’त्कारी’ ‘शिक्षक को ”जे”ल” की ह’वा’ ‘खाने का निर्देश दिया है। आइए आ’ज’ ”हम आपको बताते हैं कि 3 साल पह’ले”’ ””’टिह’री”” ””गढ़’वा”’ल में कैसे आ””रो”पी” शिक्षक द्वारा मान”व”ता’ ‘की खोज की गई थी और पूरा मा””म”’ला ”क्या है।

मा”म”’ला 22 सितंबर का बताया जा रहा है। 22 सितंबर 2017 को पी”ड़ि”ता” के पिता ने उनकी बेटी के साथ हुए बला”त्का”र ”का ”मु”क’द”मा पु”लि”स” में ”द”र्ज”’ कराया था। पिता ने मा”म”ला’ ‘तब ‘द’र्ज” ‘करा’या’ था जब उनकी ना”बा”लि”ग बेटी 8 महीने की ग”र्भ”’व’ती ”थी। जब पु”लि’स ”ने मा”म’ले’ की तह’की”’का’त ”की तो पु’लिस’ भी ‘दं’ग’ रह गई क्योंकि ब’ला”’त्का”री’ औ’र कोई नहीं छा’त्रा’ ”का शिक्षक था जो कि स्कूल के बाद उसको अपने पा”स” रो”क ”’कर” जबर”द”स्ती उस’का’ ‘शारी”””रिक रूप से शो”ष”ण करता था। आ”रो’पी ‘प्रमे”श’ कुमार टिहरी जिले के जौनपुर ब्लॉक के एक इंटर कॉलेज में इतिहास के प्र”व”क्ता’ ‘पद पर तैनात था और उसके ऊ”प’र” उसी की ना”बा”लि”ग’ छात्रा” ‘के ‘साथ जब”र”’न शा”रीरि”क’ ‘सं’बं”’ध बनाने का आ”रो”प लगा था। 13 सितंबर 2017 को छात्रा ने अपने पेट में बहुत तेज द”र्द”’ की शि”’का”य”त’ की थी, जिसके बाद प’रि’ज’नों’ ‘ने उसको अ’स्प’ताल” में भ”र्ती ”कराया था जहां पर डॉक्टरों ने उसे 8 महीने की गर्भ”व”’ती ‘बताया था।

 

जब परिजनों ने अपनी बेटी से इस बारे में पूछा तो छात्रा ने उनको सा”री”’ स”’च्चा””ई बता दी। छात्रा ने बताया कि उसके इतिहास का शिक्षक प्रमेश स्कूल की छुट्टी होने के बाद उसको क्लास में रोकता था और उससे कमरा साफ करवाता था और उसको खाने- पीने की कुछ चीजों में न”शी”’ला” ””प’दा’र्थ” भी देता था जिसके बाद वह बे”हो”’श’ ‘हो जाती थी और वह उसके साथ दु”रा”चा”र करता था। यह बात किसी को बताने पर वह छात्रा को और उसके माता-पिता को जान से मा”’र’ने’ ”की ध”म”’की ‘भी देता था। ‘पी’ड़ि’ता” ने ब”ता”या कि उस”के” शिक्षक ने कई बार उसको अपने घर पर बु”ला”क”’र भी उसके साथ ”रे”प’ किया। जब उसके घर वालों को यह बात पता लगी तब उनके पै”रों’ ‘त’ले” ज’मी’न”’ ”खिसक’ ‘ग’ई’ ”’और” ‘छा’त्रा’ के पिता ने अपनी मा’सू’म’ ”बेटी”’ को’ ‘न्या”य’ ‘दिला’ने” के’ ‘लि’ए” ”का’नून’ ‘के’ ”द’र’वा’जे” ‘ख’ट”’खटा’ए’ ‘औ’र’ ‘उ’न्हों”ने ‘2’2′ ”सितं’ब”र’ को’ ‘था’ना” ”कैं’प’टी” ””में”’ ‘मुक’द’मा’ ‘द”र्ज’ क”रा’या’ ‘पुलि””स ‘ने’ पो’क्सो ‘ए’क्ट’ ‘के””” त”ह’त” ‘मा’म””ला ””’पं’जी’कृ”त”””’ कर आ”रोपी” ‘को’ ‘गि’र’फ्ता’र’ कर लिया और जे”ल ”’भेज’ ‘दि’या” ‘और 3’ ‘सा”’ल के लंबे समय के बाद टिहरी में विशेष न्यायाधीश अमित कुमार की अ”’दा”ल”त” ने बचाव और अभियोजन पक्ष की स’भी”’ द’ली’लें’ ‘सु”नने’ ”के ‘बा’द ‘आ’खि”र’का’र’ ‘आ’रो”पी’ ”शिक्ष’क’ ‘प्र’मे’श’ ‘को’ ‘दो’षी’ ‘पाते हुए 20 साल के कारा’वा”स ”की ‘स”जा’ ‘सुना’ई’ ”है’ ‘औ’र’ ‘इसी’ ‘के’ साथ राज्य सरकार ‘को ”पी’ड़ि’ता’ ‘को’ ‘7’ ‘ला’ख ”भु’ग’ता’न” ‘करने को भी कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.